मैं

Standard

आधा अधूरा

खवाब यह मेरा

कही बिखर न जाये

मेरी आँखों मैं पलते मंजर

कही टूट न जाये

 

मेरे अन्दर मैं उठते

कई तूफ़ान हैं

मेरी अनकही बातों मैं

कई पैगाम हैं

आज कही यह तूफ़ान,

यह पैगाम,

सैलाब बन बह न जाए

 

डरती हूँ, जो आ गए

मेरी रूह के राज बाहर

डूब जाएगी, यह कायनात

उन दो बूंदों मैं

जो निकलेंगे

चीर कर सीना मेरा

 

गुम हो जायेगी हसीं होंठो से

चमन से बहार चली जायेगी,

चली जायेगी चाहत,

जीने का सबब ,

और मैं बस खाली हो जाऊंगी

 

यह अधूरे खवाब,

यह आधे से मंजर,

यह अनकहे पैंगम

और उठते तूफ़ान

मेरी पहचान हैं

कही टूट न जाए

कही बिखर न जाये

Advertisements

One response »

  1. zindagi se haar maan lene ki sochee ! usne kaha aurat ho aur maa bhi tumhe toot kar bikharne ka haq hi nahin diya maine !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s