छलावा

Standard

हालात यही हैं हर तरफ ,

ढूँढने जाते हैं खुशियाँ

पर गम के सिवा कुछ  नहीं

 

रोजमरा मैं सोचे तो ,

खुशनसीब हैं हम

पर अपनी रूह मैं झांके तो

अकेलेपन के सिवा कुछ भी नहीं

 

जीए जाते हैं देख कर चेहरा उनका ,

जो कहने को हैं अपने

पर एक छलावे से ज्यादा कुछ भी नहीं

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s