बारिश

Standard

Baarishजहा तुम  बारिश वहा

जहा तुम नही बारिश वहा

फर्क फ़कत इतना

एक नमी मैं उम्मीद

एक नमी मैं उदासी

जहा तुम जज़्बात वहा

जहा तुम नहीं जज़्बात वहा

फर्क फ़कत इतना

कुछ मैं ख़ुशी

कुछ मैं बारिश का पानी

जहा  तुम पदचिन्ह वहा

जहा तुम नहीं पदचिन्ह वहा

फर्क फ़कत इतना

एक तरफ सागर का किनारा

दूजी और गीली रेत बिखरी वहा

जहा तुम  इमारते वहा

जहा तुम नहीं  इमारते वहा

फर्क फ़कत इतना

एक तरफ क्षितिज

दूसरी और   टूटे खंडहर वहा

जहा तुम बारिश वहा

जहा तुम नहीं बारिश वहा

नव वर्ष

Standard

पदचिंह....Footprints of Past and Future

नए रंग, नए रूप,

नए पल, नयी खुशियाँ

नए लोग, नए रिश्ते

नए दिन और नयी दुनिया

नए वर्ष की ड्योढ़ी पर

पुराना साल भी छोड़े जाता

कुछ अपूर्ण स्वप्न, आधी अभिलाषा

पूरी हो हर कामना, हर सपना

शुभ हो, मंगल हो, प्रार्थना है

पास हो हर अपना

View original post

Aside

पदचिंह....Footprints of Past and Future

Some time back I wrote a poem in Hindi titled “Maa”, which means mother. For my friends who do not know Hindi, here is an attempt in English, honoring my mother- who is also my best friend and also little angel- my daughter.

My little, tiny angel

Dancing in the sun

Fell down lightly

And said, “oh! Mum”

She came running

And hugged me tight

And two warm tears

Fell on my cheeks

And my heart cried

What my mom is to me

My angel found in me

My mom’s blessings

Now are mine

To share and to light

Few hands have lost

Their soul and guide

Hiding in the clouds

Are their mums

Watching them alright

My friends,

Do not loose heart

She is their, smiling

Feeling proud,

Looking at you

Living life right

The blessings God gave me

The biggest is my mum

My mom’s Affection

View original post 35 more words

बात दोस्ती की एक नए अंदाज़ मैं …. A conversation between four friends

Standard

बात दोस्तों मैं उठी एक शाम, ऐसे ही,

और समां बंध गया ऐसा,

पुराने  दोस्तों की बाते,  दोस्तों के नाम 

शब्दों मैं बंधी,  मिलीजुली रचाएँ  चार दोस्तों की 

 

Pehli Rachna thi Seher…aur uske baad silsila chal pada…

 

jindagi kabtak yun hi raabta hogi,

chalegi yuhin par kab tak aashna hogi, 

lagta hain sab ko hum khade hain makam par, 

par yeh jindagi na jane kab hum se hi saamna hogi, 

chale jaate hain, bahe jaate hain, bikhare bhi jaate hain, 

thum ja yahi, yahi teri sabr ka, seher ka, agaaz hogi  ……………….Rashmi

 

Jo abtak guzari Uska Malal Nahin,

honsala hai ki aage kuch to kasar baaki hogi…………Nirjara

 

Honsala hota hi itna to malal nahi 

Par jibdagi ab tak Jo gujari hain

Uska dum ab Saath nahi

Na chal paayenge aur ab,

Dilo main khwaish Bhi nakam rahi……………..Rashmi

 

Labon par khudah ka ilm hai jab tak yaara,

Rago Mai daudane ki garmi hogi…………Nirjara

 

Ragon mein daudte phirne ke hum nahin kaayal ..

Jab aankh hi se na tapka to phir lahoo kya hai …….Ritu Quoted Mirza Galib

 

Zindagi guzar jayegi bagal Mai rah kar yoon hi. 

Ab to lagta hai Tere ghar direct tapkane ke jurrat hi Karni hogi…………Nirjara

 

Gar jurrart ki Jo aapne

Aap ke Saath hum Bhi ho lenge

Aap Jo lotenge ghar ko vaapis 

Aap ke Saath Kuch naye pal Bhi ho lenge

Kuch purani Yaado par tumahari…. Hum Aaj Bhi fida hain..

Jo bitaaye Saath naye pal… Aur nagme Bhi Saath ho lenge…………….Rashmi

 

“Chale jaate hain ,bahe jaate hain , bikhare bhi jaate hain “

sambhal yaaran , ab kuch pal khudh ke liye kaseedne ki jurrat hogi……………..Nirjara

 

रुई का गद्दा बेचकर दरी खरीद ली,

ख्वाहिशो को कम किया और ख़ुशी खरीद ली !

सबने ख़रीदा सोना मेने सुई खरीद ली

सपनो को बुनने जितनी डोर खरीद ली 

इस ज़माने से सौदा कर एक ज़िन्दगी खरीद ली,

दिनों को बेचा और शामे खरीद ली !

रुई का गद्दा बेचकर दरी खरीद ली,

ख्वाहिशो को कम किया और ख़ुशी खरीद ली !…………….Energyia

 

apni woh Sui to udhaar de yaar. 

Abtak ki bunaayi aadh-kachchi loon mein sawaar. 

Kuch nayi bunoo kabhi purani loon udhaarh. 

Bharosa hai mujhe ki yeh dor sulajh hi jaayegi ……………………Nirjara

 

Had fun after years…Enjoy

 

 

Seher

Standard

jindagi kab hum se raabta hogi,
chalegi yuhin par kab tak na aashna hogi, 
lagta hain sab ko hum khade hain makam par, 
par yeh jindagi na jane kab hum se hi saamna hogi, 
chale jaate hain, bahe jaate hain, bikhare bhi jaate hain, 
thum ja yahi, yahi tere sabr ka, seher ka, agaaz hoga

भॅवर

Standard

IMG_0875जिंदगी इतनी मुश्किल क्यों हैं

आँखों मैं इतनी नमी क्यों हैं

बाँध  तोड़ के बहते हैं दरिये

इतनी आसानी से सब्र टूटते  क्यों हैं

 

जिंदगी रंगी क्यों हैं आँसुओं के रंग में

दामन गीला और मन भारी क्यों हैं

सरे रंग छोड़ के खड़ी हैं कलम मेरी

फिर कहे की पन्ने  यूं  कोरे क्यों हैं

 

जिंदगी के आईने मैं चटख दरारे क्यों हैं

किरचे सीने मैं नासूर सी चुभती क्यों हैं

दीखते हैं कई चेहरे एक आईने मैं

कोई भी अपना चेहरा,  ना क्यों हैं

 

जिंदगी इतनी हैरान, इतनी अजब क्यों हैं

हर पल विडम्बना  मैं फँसी क्यों हैं

सपने किसी के, पलके किसी की, दस्तक किसी की

पूंछे जरा  की, फलते  और कही , क्यों हैं

 

जिंदगी की चौखट गीली मिट्टी सी नरम क्यों हैं

भरभरा के धराशाई होती क्यों हैं

जैसे ही रखते हैं कदम, अपना समझ कर

वो आशियाना किसी और का होता क्यों हैं

 

साँझ  की गोधूलि पर खड़ी  हैं जिंदगी

ना रात अपनी, न दिन साथ मैं हैं

दोनों हाथों से टटोलते अपनी उम्मीदे

ये  उम्मीदों  की घड़ियाँ इतनी बेवफा क्यों हैं 

 

जिंदगी ऐसी क्यों हैं, बेरौनक , सुनसान

टूटते  हैं सपने, पर  जज्बात जिन्दा क्यों हैं

हँसते हैं हम, पर  भॅवर मैं गिरते क्यों है

अपने सच और औरों के झूट का फरक सीख जाए

ऐसी  बेमानी  तमन्ना हम करते क्यों हैं

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Life

Standard

Life is a Journey,

With new Beginnings coming along every day

New Sunrises, new Rainbows spreading joy on every face

 

Life is a Sea,

With myriad emotions coming ashore

Bringing along newer highs and newer lows

 

Life is a Bouquet,

With some fresh flower, and fresher hues

Coloring the world with brightest strokes

 

Life is a Song,

With lyrics so different each time

Singing and humming a sweeter tune

 

Be it a journey, sea, bouquet or a song,

Each with its own meaning, its own joy

Life does bring across some moments

That ones feels should be bygones

 

But isn’t it lovely that each goes by so fast

And LIFE starts loving LIFE again so much more

And we start loving Life beyond all hope.

Starting a new Journey

Standard

IMG_0182Well it might sound, I am travelling to a new place, or on a voyage, but the journey I am writing about is from couch to 10K (6.2 miles) run!!

Actually I have always admired people who run marathons and are runners for their goal and dedication. I have wanted to run since a long time, and so in a moment of don’t know what???,  I actually went ahead and signed up for a 10 K run, not 1, not 5, but 10K.  I might not be sounding coherent, but that’s what I did, without any prior experience or running. To speak mildly,  I am not a runner (:.

I started thinking seriously after gaining a lot of weight back, which I had lost last year, over the summer break . After procrastinating for two weeks, I actually went ahead and registered for the run, paid the amount and set myself a goal. I am blogging this to keep myself true to my goal. Even if I can get half way through I will be happy, ultimate goal is to be fit and healthy and be confident that I can do it too.

And hence I start a journey of 14 weeks to 10k, health, hard work and perseverance!

Week 1, Day 1

Today was day 1, it was hard to push myself to start my first day, but I then did and  went ahead on a 30 mt circuit with walking, running, alternating between the two, completing two miles. By the time I finished, I was questioning myself, why am I doing it?  It was hard but I hope to keep up. Felt tired initially, but then a sense of I can do it overcame.

Join me in my journey, in this virtual world, first few weeks might be boring, since I would be concentrating on catching my breath, but I guess I will be able to tell more stories, share music and experiences.

See u soon, back on my journey…..

love and live life!! Cheers!!

सन्नाटा

Standard

पदचिंह....Footprints of Past and Future

उठता हैं बवंडर शब्दों का

पर चुप हैं कलम

और खामोश है जुबान

सन्नाटा सा छाया हैं

जब सदियाँ हैं करने को ब्यान

 

ढूँढ रही हूँ, भटक रही हूँ

चलता हैं एक अंतर्द्वंद

कहने को, है इतना कुछ

पर छाई हैं, एक  गहरी धुंध

 

उतावले बैठे हैं इतने क्षण

कुछ शब्दों मैं गढ़ जाने को,

एक मूरत सी बनती हैं

कुछ पन्नों मैं छप जाने को

 

ऐसा नहीं की,

मन का कोष हैं खाली

हैं बहुत से सपने, ढेर सी हकीकत

इतनी खुशियाँ  जो मैंने पाली

 

अंतर्मन मैं, उठती हैं लहरें

बाँट सकूँ सब संग,

हर पल जो मैंने पाया

हर अश्रु जो पलकों पर आया

 

बनते बिगड़ते रिश्तों की

दिन रात  उलझते धागों की

मौन पलों और  कहते अधरों की

दास्ताँ हैं बयाँ करनी मुझे

मौसम के आते जाते  हर रंगों की

 

माना एक प्रश्नचिन्ह है मेरे आगे

पर क्या यह होता हैं सबके…

View original post 39 more words