Tag Archives: दिन

जीवन की आपा धापी

Standard

जीवन की आपा धापी मैं
कितने चेहरे बदल गए
सब को खुश रखते रखते
हम ही मानो टूट गए
हर पल जीवन जीते जीते
हर पल हम ही बदल गए

लम्हे दिन, दिन साल हुए
जाने कितने ही संगी साथ हुए
जिनको भी हमराज बनाना चाहा
हर बार उन्ही से ठेस लगी
हमसफ़र की इच्छा रखते रखते
हम ही मानो टूट गए
जीवन की आपा धापी मैं
कितने चेहरे बदल गए

कुछ दोस्त बने, कुछ रिश्ते
कुछ हर सूरत मैं साथ चले
कुछ दो पल मैं रूठ गए
कुछ हमसे ही पीछे छूट गए
हर आंसू मैं मुस्कान दूंदते
हम ही खाली आँख रहे
जीवन की आपा धापी मैं
कितने चेहरे बदल गए

अनजान डगर, अनजान सफ़र
राह मैं वोह साथ हुए
हाथो मैं हाथ, हसरत मैं हसरत
कितने यूँ दिन चार हुए
कुछ को पूरा करते करते
कुछ अग्नि कुंड मैं होम हुए
जीवन की आपा धापी मैं
कितने चेहरे बदल गए

आज नाचते, कल थे सोये
आज बोलते, कल थे रोये
हाड मांस की काठी मैं
कितने अरमान धड़क गए
अपना सरमाया उसे कहते कहते
कितने ही शब्द सूँख गए
जीवन की आपा धापी मैं
कितने चेहरे बदल गए
हर पल जीवन जीते जीते
हर पल हम ही बदल गए

Advertisements

ख्याल….

Standard

हर सूं यह ख्याल आते हैं

वो दिन, वो पल याद आते हैं

 

जब रात दिन एक होते थे

जमीन और आसमान साथ होते थे

हम तुम्हारे साथ और

तुम हमारे साथ होते थे

काश तुम हमारे पास होते

वो लम्हात याद आते हैं

 

जब चाँद हमारी झोली मैं था

और सूरज सातवे आसमान मैं

जब हमारी हंसी

तुम्हारी आँखों से टपका करती थी

और हमारी धडकन

तुम्हारे दिल मैं धडका करती थी

काश तुम हमारे पास होते

वोह जज्बात याद आते हैं

 

जब सारी कायनात हमारे दामन मैं

और सारे जलवे

हम अंदर से रोशन करा करते थे

हाथों मैं हाथ और

दिलो मैं एक दूजे की तस्वीर लिए

भवरे की तरह गूंजा करते थे

काश तुम हमारे पास होते

वो दिन, वो पल याद आते हैं

दीपावली

Standard

शुभ हो, मंगलमय हो

दीपावली का, यह त्यौहार

न रहे अमावास, मिटे अँधेरा,

फैले उजियारा चंहु और

 

सजे घर आँगन,

करे श्रृंगार हर कोना

हो गृहप्रवेश, खुशियों का

दमके गली कूचा हो जैसे सोना

 

खील खिलोने और बताशे

दे जाये मिठास रिश्तों को

भूले बिसरे भी पास आ जाये

दे नयी उम्र अपनों को

 

इस दीपावली

हो जाए हर अधूरा सपना पूरा

भर जाए आँचल,

माँ लक्ष्मी की रहे अनुकम्पा